5x0bjT_m3kQ/s484/BBLM%2B3D.png" height="70px" width="200px"/>
function random_imglink(){ var myimages=new Array() myimages[1]="http://www.blogprahari.com/themes/default/imgs/ads/hosting-b22.jpg" myimages[2]="http://www.blogprahari.com/themes/default/imgs/ads/hosting-b22.jpg" var imagelinks=new Array() imagelinks[1]="http://domain.mediaprahari.com/" imagelinks[2]="http://mediaprahari.com/" var ry=Math.floor(Math.random()*myimages.length) if (ry==0) ry=1 document.write('') } random_imglink() Random Advertise by Blogprahari ---->

Check Page Rank of your Web site pages instantly:

This page rank checking tool is powered by Page Rank Checker service

style="border:none" src="http://www.searchenginegenie.com/widget/seo_widget.php?url=http://ghazalkenam.blogspot.com" alt="Search Engine Promotion Widget" />
www.apnivani.com ...

सोमवार, 12 जुलाई 2010

उलझन

उलझनों में मुब्तिला है ज़िन्दगी ,मुश्किलों का सिलसिला है ज़िन्दगी।
बीच सागर में ख़ुशी पाता हूं मैं , साहिले ग़म से जुदा है ज़िन्दगी ।
फ़ांसी फिर मक़्तूल को दे दी गई ,क़ातिलों का फ़लसफ़ा है ज़िन्दगी।
किसी को तरसाती है ता-ज़िन्दगी,किसी के खातिर ख़ुदा है ज़िन्दगी।
मैं ग़ुलामी हुस्न की क्यूं ना करूं, चाकरी की इक अदा है ज़िन्दगी ।
इक किनारे पे ख़ुशी दूजे पे ग़म ,दो क़दम का फ़ासला है ज़िन्दगी।
मैं हताशा के भंवर में फंस चुका, मेरी सांसों से ख़फ़ा है ज़िन्दगी।
बे-समय भी फ़ूट जाती है कभी ,पानी का इक बुलबुला है ज़िन्दगी।
वादा करके तुम गई हो जब से दूर, तेरी यादों की क़बा है ज़िन्दगी ।
मैं चराग़ो के सफ़र के साथ हूं , बे-रहम दानी हवा है ज़िन्दगी।

3 टिप्‍पणियां:

  1. खुदा खैर करे। मगर रचना अच्छी है। शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  2. अच्छी रचना, मगर आप जो कॉमा लगाके इकसार लिखते चले जाते हैं - ये पढ़ने में थोड़ा अटपटा लगता है।
    ख़ैर - अच्छी रचना है तो ये भी सहन कर लेंगे।
    शायद आप स्टाइल बदल दें आगे…
    :)

    उत्तर देंहटाएं
  3. हौसला अफ़ज़ाई के लिये निर्मला कपिला जी व हिमान्शू जी को धन्यवाद।मोहन जी आपकी तकलीफ़ समझ में आती है।वास्तव में कामाके बाद अगली लाईन प्रारभ होती है। पेज लंबा न हो जाये इसलिये ऐसा फ़ारमेट उपयोग कर रहा हूं। आगे बदल कर देखूंगा।

    उत्तर देंहटाएं